इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 6 मई 2009

बुझता हुआ चिराग हूँ में अपने मजार का.....


18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब।

    और आपके ब्‍लॉग का नाम बडा प्‍यारा है।

    SBAI TSALIIM

    उत्तर देंहटाएं
  2. वह भाई आपने तो कमाल कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है. हिंदी में लिखते है अछा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है. हिंदी में लिखते है अछा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है. हिंदी में लिखते है अछा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है. हिंदी में लिखते है अछा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhai vah, aap bhi laloo ke murid nikley, varna lalten mein tel kaun dalega.

    उत्तर देंहटाएं
  8. manmohni blog hai aapka. utna hi sundar hai aapka soch. saf jhalkta hai aap ek din apne maksad men kamyaab honge. ashish weekaren.
    Arun Kuma Jha

    उत्तर देंहटाएं
  9. bujhati lalten kahane se to rabdi devi gussa ho jati. narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा लिखा है . मेरा भी साईट देखे और टिप्पणी दे
    वर्ड वेरीफिकेशन हटा दे . इसके लिये तरीका देखे यहा
    http://www.manojsoni.co.nr
    and
    http://www.lifeplan.co.nr

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह क्या कहने। मेरे ब्लोग पर आपका स्वागत है। लिखते रहें हमारी शुभकामनाएं साथ है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं