इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 18 मई 2009

निकल गयी सारी हेंकड़ी....हें...


5 टिप्‍पणियां:

  1. भाई यह सीधा सादा चित्र है। इस में व्यंग्य कहाँ है?

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने ठीक फरमाया दिनेश जी
    आपकी भावनाओं का आदर करते हुए
    सिर्फ इतना कहना चाहूँगा..
    इसमें उतना व्यंग्य तो नहीं है.. जितना.. पिछले दिनों चुनाव प्रचार में
    कार्टून होर्डिंग्स में था...
    यह वाकई सीधा-साधा चित्र है..

    उत्तर देंहटाएं